रांची: एक तरफ जहां प्रदेश में लगातार कोरोना के मरीज मिल रहे है तो वही दूसरी ओर कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है.कई अस्पतालों के गेट पर पर्चा लगा दिया गया है कि वैक्सीन उपलब्ध नहीं है. रांची में धुर्वा स्थित एचईसी के वेलनेस सेंटर पर लगे पर्चे में लिखा हुआ है ‘वर्तमान में राज्य सरकार द्वारा वैक्सीन सप्लाई नहीं की जा रही है, इस कारण वैक्सीनेशन बंद रहेगा “.

ये भी पढ़ें :सिंगर-एक्टर बनाने का झासा देकर 7 विदेशी बच्चियों का अपहरण

अब नौबत ऐसी आ गई कि स्वास्थ्य विभाग को यहां-वहां से टीका मंगवाना पड़ रहा है. अब तक गुमला से 4000, देवघर से 3880 और गढ़वा से एक हजार डोज वापस मंगवाकर जमशेदपुर को 3880, कोडरमा को 4000 और धनबाद को एक हजार डोज मुहैया कराया गया है. इसकी वजह है वैक्सीन की कमी. स्वास्थ्य सचिव केके सोन का कहना है कि फिलहाल सिर्फ साढ़े तीन लाख डोज उपलब्ध हैं. सवाल है कि अब तक झारखंड को वैक्सीन की कितनी डोज केंद्र सरकार से मिली है और कितनी खपत हुई है.

ये भी पढ़ें :सिंगर-एक्टर बनाने का झासा देकर 7 विदेशी बच्चियों का अपहरण

दरअसल, 13 जनवरी 2021 को वैक्सीन की पहली खेप झारखंड पहुंची थी. अब तक झारखंड को कोविशिल्ड की 20,74,760 डोज और कोवैक्सीन की 2,27,760 डोज यानी कुल 23,02,520 डोज उपलब्ध हुईं हैं.वहीं 4 अप्रैल तक 15,94,804 लोगों को पहला डोज और 2,63,735 लोगों को दूसरा डोज लग चुका है. यानी कुल 18,58,539 लोगों को टीका लगा है. इसकी तुलना में अब सिर्फ 4,43,981 डोज बचे होने चाहिए, लेकिन स्वास्थ्य सचिव के मुताबिक सिर्फ साढ़े तीन लाख डोज बचा हुआ है. अब सवाल है कि शेष 93,980 डोज कहां है. इसका जवाब किसी के पास नहीं है.

 

0Shares

By Avnish

10 thoughts on “कोरोना वैक्सीन में हुआ बड़ा घोटाला ! मरीज बिना डोज लिए लौट रहे वापस”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Coronavirus Stats

Confirmed cases: 1,24,85,509 Recovered: 1,16,29,289 Deaths: 1,64,623